दोस्तों हमारी पृथ्वी पर कई तरह के क्रिएचर पाए जाते हैं और इस बात पर कोई संदेह नहीं कि इनमें से कुछ बहुत अमेजिंग होते हैं और इन्हे प्रकृति ने खुद तैयार किया है लेकिन जब इंसान प्रकृति और जानवरो के बीच आता है तो परिणाम बहुत अजीब देखने को मिलता है और आज इस वीडियो में मैं आपको कुछ ऐसे ही विचित्र जानवरों के बारे में बताने वाला हूं जो देखने में Unreal लगते हैं लेकिन सच में मौजूद है मैं हूँ आपका दोस्त दक्ष और आप देख रहे हैं |

Africanized Bees

Related image

Image Credit: Google Search

वैज्ञानिकों द्वारा लैब में तैयार की गई यह मधुमक्खी बेहद अलग और विचित्र है क्योंकि यह आम मधुमक्खियों से ज्यादा खतरनाक है इन्हे बनाने का काम 1956 में रियो क्लारो की एक लवरेटरी में शुरू किया गया था और ब्राजीलियन बायोलॉजिस्ट ‘Warwick Kerr’ ने इन मधुमक्खियों को तैयार का जिम्मा उठाया था जो ज्यादा मात्रा में शहद बना सके | इसके लिए डॉक्टर Kerr ने अफ्रीकन मधुमक्खियों के कुछ फीचर यूरोपियन मधुमक्खियों में डाल दिए | जिसके बाद इन मधुमक्खियों का जन्म हुआ और उन्हें सफलता भी मिली क्योंकि यह दूसरी मधुमक्खियों से बड़ी थी और ज्यादा मात्रा में शहद बना सकती थी | लेकिन अफ्रीकन मधुमक्खियों की वजह से यह मधुमक्खियां काफी आक्रामक है जिस वजह से अगर कोई इन पर हमला करता है तो यह उसे बुरी तरह घायल कर सकती है तो यह कहना गलत नहीं होगा कि इस मधुमक्खी के फायदे और नुकसान दोनों है |

Tigon

Image result for tigon

Image Credit: Google Search

साइंटिस्ट ने लवरेटरी में कई दिनों तक लगातार रिचार्ज करने के बाद टाइगर और लायन की प्रजाति को मिलाकर एक नई प्रजाति को जन्म देने का फैसला लिया और इन्हें Tigon नाम दिया गया | लायन और टाइगर दोनों ही पृथ्वी पर 7 मिलीयन साल से रह रहे हैं जिस वजह से इन दोनों जीवो को मिलाकर एक नए जीव को तैयार करना संभव था | अभी आप Tigon नाम की इस प्रजाति को केवल ज़ू में ही देख सकते हैं | क्योंकि जंगल में लायन और टाइगर का मैटिंग करना संभव नहीं है | Tigon में टाइगर और लायन दोनों के फीचर है इसके शरीर पर टाइगर की तरह काली पट्टियां है और आकार शेर जैसा है इनका वजन 160 किलोग्राम तक हो सकता है लेकिन Tigon प्रजाति की मादा नर से ज्यादा ताकतवर हैं |

Beefalo

Image result for beefalo

Image Credit: Google Search

दोस्तों यह है बीफालो | जिसे साइंटिस्ट ने पालतू गाय और अमेरिकन वाइल्ड बफैलो के जींस द्वारा आर्टिफिशियल इनसेमिनेशन तकनीक द्वारा तैयार किया था | इस प्रजाति को जन्म देने वाला पहला इंसान चार्ल्स गुड नाइट था | जब उसने 1886 में हजारों बफेलो को सर्दी की वजह से मरते हुए देखा था | इसीलिए वो कुछ ऐसा करना चाहता था | जिससे यह जानवर ठंड में भी जी सकें और इस आईडिया ने बीफालो की इस नई क्रिएशन को जन्म दिया | यह जानवर हर मौसम की मार को झेल सकते हैं और बिना किसी की स्पेशल केयर के खुद भोजन ढूंढ सकते हैं और आज अमेरिका के सभी 50 राज्यों में इन्हे देखा जा सकता हैं |

Iron Age Pig

Image result for iron age pig

Image Credit: Google Search

इस जानवर के fluffy बालों की वजह से इसे Iron Age Pig नाम दिया गया है और इस प्रजाति के सूअर को बनाने के पीछे कोई खास वजह नहीं थी | इस नई प्रजाति को जंगली सूअर और पालतू सूअर की क्रॉस बिल्डिंग से तैयार किया गया है | जिसने एक नई प्रजाति के को जन्म दिया जिसका नाम आईरन एज पिक्स है | जंगली सूअर की इस प्रजाति को पाला जा सकता है लेकिन यह पालतू सुअरो की तरह शांत नहीं होते | जंगली सूअरों के जीन्स के कारण यह काफी गुस्सैल होते हैं | आईरन एज पिग को 1980s को एक लवरेटरी में तैयार किया गया था | और आज वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गई इस प्रजाति को यूरेशिया और ऑस्ट्रेलिया के साथ साथ साउथ अमेरिका और नॉर्थ अमेरिका में भी देखा जा सकता है |

Polecat Mink

Related image
Image Credit: Google Search

यह प्रजाति यूरोपियन polecat और यूरोपियन मिंक की हाइब्रिड है जिन्हें 1978 में क्रॉस ब्रीडिंग द्वारा Deaton Offski ने तैयार किया | फिर भी यह प्रजाति कई बार जंगली वातावरण में भी पाई जाती है | इन्हें इनके घने बाल मिंक से मिले हैं और तैरने की इनकी काबिलियत polecat की वजह से | साथ ही polecat जीन्स की वजह से ये गढा खोदने में भी माहिर होते हैं |